सुहागन महिलाओ को भूल कर भी नहीं पहननी चाहिए ये 3 चीजे, वरना भुगतना पड़ सकता है इसका अंजाम

8029

इसमें कोई शक नहीं कि हमारी भारतीय संस्कृति में वास्तु शास्त्र का बहुत खास महत्व होता है. शायद यही वजह है कि इंसान जब कोई शुभ काम करता है, तो वह वास्तु शास्त्र के अनुसार ही करता है. जी हां जैसे कि कोई भी शुभ काम करने से पहले उचित समय और उचित दिन आदि सब पता करने के बाद ही वह कार्य किया जाता है. यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो हमारे भारत देश में कोई भी शुभ काम वास्तु शास्त्र के बिना पूरा नहीं हो सकता. वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दे कि अगर किसी भी कार्य को वास्तु शास्त्र के अनुसार किया जाएँ तो भविष्य में उस कार्य को लेकर कोई परेशानी नहीं होती.

वही अगर हम सुहागन स्त्रियों की बात करे तो उन्हें लेकर वास्तु शास्त्र में बहुत सी ऐसी बातें कही गई है, जिन्हे सुहागन स्त्रियों को अपने जीवन में जरूर अपनाना चाहिए. हालांकि आज के समय में बहुत कम लोग ऐसे है जो इन बातों पर यकीन करते है. जहाँ एक तरफ लड़कियां हर चीज में काफी आगे निकल चुकी है, वही दूसरी तरफ सुहागन स्त्रियां भी आज कल के फैशन के अनुसार ही चीजे पहनती है. बरहलाल आज के समय में सुहागन स्त्रियां ऐसी कई चीजे भी पहनती है, जिसके कारण उनके अंदर नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है. यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो सुहागन स्त्रियों को फैशन जरूर करना चाहिए, लेकिन फैशन के साथ साथ उन्हें अपनी संस्कृति और वास्तु शास्त्र का ध्यान भी रखना चाहिए.

वैसे आपको जान कर हैरानी होगी कि कई बार सुहागन स्त्रियां कुछ ऐसी चीजे भी पहन लेती है, जिसके कारण उनका रिश्ता तक टूट सकता है. बरहलाल वास्तु शास्त्र के अनुसार आज हम आपको ऐसी ही कुछ चीजों के बारे में बताने जा रहे है, जिन्हे सुहागन महिलाओ को भूल कर भी नहीं पहनना चाहिए. अगर हो सके तो इस जानकारी को जरा ध्यान से पढियेगा, क्यूकि यह जानकारी भविष्य में आपके काफी काम आएगी. तो चलिए अब आपको इन चीजों के बारे में विस्तार से बताते है.

१. काले रंग की चूड़ियां.. गौरतलब है कि सुहागन स्त्रियों को भूल कर भी काले रंग की चूड़ियां नहीं पहननी चाहिए, क्यूकि इससे उन्हें शनि देव के प्रकोप का सामना करना पड़ सकता है. ऐसे में उनका विवाहित जीवन भी खराब हो सकता है. यहाँ तक कि उनके घर में भी नकारात्मक शक्तियों का वास होने लगता है. केवल इतना ही इसके इलावा आपके बच्चो को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए भूल कर भी काली चूड़ियां न पहने.

२. पैरो में सोना तत्व.. गौरतलब है कि आज के समय में बहुत सी महिलाएं अपने पैरो में सोने से बनी पायल या बिछिया पहनती है. बता दे कि यह सुहागन महिलाओ के लिए अशुभ माना जाता है. गौरतलब है कि पैरो में सोना तत्व पहनने से कुबेर जी नाराज हो जाते है. जिसके कारण आपके जीवन में दरिद्रता आ सकती है. इससे आपके पति की तरक्की भी रुक जाती है और आपको आर्थिक समस्या का सामना भी करना पड़ता है. इसलिए सुहागन महिलाओ को अपने पैरो में हमेशा चांदी तत्व ही पहनने चाहिए.

३. सफेद रंग की साडी.. गौरतलब है कि सुहागन महिलाओ को भूल कर भी सफेद रंग की साडी नहीं पहननी चाहिए. हालांकि आज के समय में महिलाएं सफ़ेद साडी पहनने में जरा सा भी संकोच नहीं करती. जिसके कारण उन्हें जीवन में कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. बता दे कि सफेद साडी पहनने से सुहागन महिलाओ का पतिव्रता धर्म खत्म हो जाता है. इससे आपके दाम्पत्य रिश्ते में नकारात्मक शक्तियों का वास होने लगता है.

यहाँ तक कि इससे आपके पति के जीवन पर भी संकट आ सकता है. इसलिए सुहागन महिलाओ को भूल कर भी सफेद साडी नहीं पहननी चाहिए.