सर्दी के मौसम में बच्चो के कमरे में हीटर और ब्लोअर रखना सेहत के लिए है होता है हानिकारक

311

जैसा की हम सभी जानते है की अब सर्दी का मौसम अ चूका है और जब भी सर्दी बढ़ती है तब लोग सर्दी से बचने के लिए कई तरह के उपाय ढूँढने में लग जाते है |वही सर्दी के मौसम से पहले लोग अपने आप को गर्म रखने के लिए आग जलाकर रखते थे पर अब ज्यादातर घरों में लोग रूम हीटर या फिर ब्लोअर का इस्तेमाल करते है जिससे पूरा रूम कुछ ही मिनट में गर्म हो जाता है और हमे ठंड महसूस नहीं होती है |

वही जिन  में छोटे बच्चे होते है उस घर में सर्दी के मौसम  में बच्चों को ठंड से बचाने के लिए माँ बाप बच्चों के सामने रूम हीटर या फिर ब्लोअर लगा कर रख देते है ताकि  बच्चे को ठण्ड न लगे पर बच्चों के पास रूम हीटर लगा कर रखना बच्चे की सेहत के लिए कितना नुकसानदायक या फिर फायदेमंद है इस बारे में ज्यादातर  लोगो को सही जानकारी नहीं होती  और इस वजह से लोगो को कभी कभी कुछ मुश्किलों का भी सामना करना पड़ता है |

वही आज के इस पोस्ट में  हम आपके लिए एक्सपर्ट्स के द्वारा बताई गयी जानकारी शेयर करने वाले है जिंसमे आप ये जान  पाएंगे की छोटे बच्चों के पास रूम हीटर रखना कितना सही  और कितना गलत है और रूम हीटर लगाते समय क्या क्या सावधानी बरतनी चाहिए जिससे बच्चों  की सेहत पर कुछ भी गलत प्रभाव न पड़े तो आइये जानते है क्या है एक्सपर्ट्स की राय

बच्चों के लिए कितना सुरक्षित है हीटर

हीटर से हवा की नमी होती है खत्म

एक्सपर्ट्स के मुताबिक हमारे अच्छी सेहत के लिए हवा में नमी को होना बेहद ही जरूरी होता है और जब भी हम छोटे बच्चों के कमरे में रूम हीटर  या ब्लोअर लगा देते है तब हवा में से नहीं धीरे धीरे सूखने लगती है और कमरे के अंदर की हवा पूरी तरह से रुखी हो जाती है और कमरा भी पूरी तरह से बंद होता है तो बाहरी हवा उसमे प्रवेश नहीं कर पाती और इससे बच्चों की कोमल त्वचा पर सूखापन आने लगता है और कभी कभी तो  इस हवा में ज्यादा देर तक रहने पर बच्चों को रक्तस्त्राव का भी खतरा होता है इसीलिए हमे ज्यादा देर तक रूम हीटर बच्चों के बंद कमरे में लगाकर नहीं रखना चाहिए |

बच्चे को सांस लेने में हो सकती है परेशानी

जब भी कमरे में हम हीटर लगाकर रखते है तो कमरा धीरे धीरे काफी गर्म होने लगता है और जब  इस गर्म हवा में बच्चा साँस लेता है तब उसे कभी कभी साँस लेने में दिक्कते आनी लगती है और घुटन सी महसूस होने लगती है इसीलिए कभी भी बंद  कमरे में ज्यादा देर तक रूम हीटर लगाकर नहीं रखना चाहिए |

तापमान के उतार-चढ़ाव से हो सकती है स्वास्थ्य समस्याएं

वही बच्चों की सेहत पर तापमान में अचानक से होने वाले बदलाव काफी ज्यादा असर डालते है और जब हम बच्चों के रूम में हीटर लगाते है तब पूरा कमरा गर्म हो जाता है और जब हम हीटर बंद करते है तब अचानक से ही कमरा सामान्य तापमान पर चला जाता है और इस तरह से तापमान से बदलाव होना बच्चे की सेहत पर काफी बुरा असल डालता है |

हीटर से हो सकता है SIDS का खतरा

एक्सपर्ट्स की माने तो जो हीटर आप अपने बच्चे के लिए उसे ठंड से  बचाने के लिए रखते है  वो आपके बच्चे के लिए  अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम (SIDS) का खतरा भी पैदा कर देता है क्योंकि इस हीटर की वजह से कमरे का तापमान काफी बढ़ जाता है जिससे बच्चों को साँस लेने में दिक्त होने लगती है और कभी कभी घुटन की वजह से बच्चों की सांसे  भी थम जाती है |इसीलिए कभी भी बच्चे के कमरे को बंद करके उसमे ज्यादा देर तक हीटर नहीं लगाना चैह्ये ये बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है |

सावधानियां

बच्चों का रूम गर्म करने के लिए पहले कुछ देर तक हीटर लगाये और फिर उसे बंध कर दे और उसके कुछ समय के बाद ही उस कमरे में बच्चे को लाकर सुलाए |

हीटर चलाने  के कुछ समय पहले ही कमरे की खिड़की और दरवाजा खोल देना चाहिए|

अगर आप बंद कमरे में हीटर जलाते है तो गीली तौलिया जरुर रखे जिससे कमरे में नमी बनी रहे |

बच्चो की पहुच से काफी दूरी पर हीटर लगाये नहीं तो करंट लगने का खतरा बना रहता है |

ज्यादा गर्म तापमान में सोना न सिर्फ बच्चे बल्कि बड़ों के लिए भी काफी नुकसानदायक होता है |

जब भी बच्चे को गर्म कमरे में लाये तो उसके शरीर पर तेल की मालिश कर दे ऐसा करने से उसके शरीर पर नमी बनी रहती  है