74 वर्षीय ये बजुर्ग महिला बन गई माँ, जुड़वा बच्चों को जन्म देकर सोशल मीडिया पर हो रही हैं वायरल

92

देश विदेश में तरह तरह की अनोखी खबरें सामने आती रहती हैं. जीवन में ऐसे किस्से अक्सर ही घटित होते रहते है. आपको बता दें कि ऐसा ही मामला भारत के हैदराबाद शहर में सामने आया है. मां बनने का पिछले पांच दशक से इंतजार कर रही आंध्र प्रदेश की 74 वर्षीय एक महिला का सपना अंत: पूरा हुआ और उसने गुरुवार को जुड़वा बच्चों को जन्म दिया.

दरअसल, इस शहर में एक 74 साल की महिला ने दो जुड़वां बच्चों को जन्म देकर सभी को हैरान कर दिया है. हालाँकि यह सुनने में अजीब लग रहा होगा, लेकिन यह विज्ञान और ममता का कमाल है. जिसने यह संभव कर दिखाया है. डॉक्टरों का मानना है कि यह नया विश्व रिकॉर्ड हो सकता है.

आपको बता दें कि दो जुड़वां बच्चों की किलकारी आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले के नेललापतीर्पाडू की रहने वाली मंगायम्मा और उनके पति वाई राजा राव के घर पर गूंजी है. जिसके बाद इनकी चर्चा हर तरफ हो रही है. दरअसल मंगायम्मा और उनके पति वाई राजा राव को 54 साल के दांपत्य जीवन के बाद भी कोई संतान नहीं हो पाई थी. लंबे समय के बाद आखिरकार दोनों ने आईवीएफ का सहारा ले लिया था.

असल बात यह है कि ,मंगयम्मा की 1962 में ई राजा राव से शादी हुई थी और इतने सालों में उन्होंने उम्मीद छोड़ दी थी लेकिन जब उनके एक पड़ोसी ने आर्टिफिशियल इनसेमिनेशन के जरिए 55 की उम्र में एक बच्चे को जन्म दिया तो उनकी उम्मीद फिर से जगी और उन्होंने आईवीएफ आजमाया. इसके बाद पिछले साल के अंत में नर्सिंग होम में दोनों ने गुंटूर के आईवीएफ विशेषज्ञों से संपर्क किया था और गुरुवार को जुड़वां बच्चों को जन्म दिया है जो अनोखा है. वहीं ऐसा बताया जा रहा है कि मंगयम्मा ने इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) प्रक्रिया के जरिए गर्भ धारण किया था और उनकी गोद में एक नहीं बल्कि जुड़वां बच्चे आ गए है.

दरअसल इस केस के डॉक्टरों की टीम को लीड कर रहे डॉक्टर उमाशंकर ने बताया है कि मंगयम्मा का चार डॉक्टरों की एक टीम ने सिजेरियन ऑपरेशन किया था. उन्होंने जुडवां बच्चों को जन्म दिया है. मां और बच्चे दोनों स्वस्थ हालत बताए जा रहे हैं. वहीं मंगायम्मा के स्वास्थ्य पर डॉक्टर निगरानी बनाए हुए हैं.

बता दें कि इससे पहले 70 वर्षीय दलजिंदर कौर को बच्चे को जन्म देने वाली दुनिया की सबसे बुजुर्ग महिला माना जाता था. हरियाणा की कौर ने 2016 में एक आईवीएफ प्रक्रिया के माध्यम से एक बच्चे को जन्म दिया था. गिनीज विश्व रिकॉर्ड के मुताबिक पिछला रिकॉर्ड 2006 में 66 वर्षीय स्पेन की एक महिला के नाम था.