अटलजी की याद में लता मंगेशकर ने किया एक ख़ास काम, आप भी एक बार जरूर देखे

2358

16 अगस्त शाम 5 बजकर 5 मिनट पर देश ने एक महान नेता और एक नेक इंसान खो दिया. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के निधन के बाद से ही पूरा देश सदमे में डूबा हुआ हैं. उनकी मौत की खबर सुनते ही हर तरफ उदासी के बादल छा गए. आम जनता से लेकर बड़े बड़े राजनेताओं और बॉलीवुड स्टार्स तक ने इस दुःख खबर के प्रति शोक जताते हुए अटल जी को याद किया. अटल जी सबसे अधिक लोकप्रिय और चाहे जाने वाले नेताओं में से एक थे. वे एक इमानदार और काम के प्रति वफादार व्यक्ति थे. यही वजह हैं कि सिर्फ भारतीय जनता पार्टी के लोग ही नहीं बल्कि दूसरी पार्टी के नेता भी उनकी काफी इज्जत करते हैं.

अटल जी के जाने के बाद हर कोई अपनी अपनी तरह से उन्हें याद कर श्रद्धांजली दे रहा हैं. ऐसे में बॉलीवुड की महान गायिका लता मंगेशकर ने भी अटल जी को याद करते हुए उनके साथ अपना अनुभव शेयर किया. लता जी के लिए अटल जी एक बड़े भाई के सामान थे. वे उन्हें दद्दा कहकर पुकारती हैं. हाल ही में लता जी ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर एक विडियो शेयर किया हैं. इस विडियो में अटल जी की एक कविता हैं जिसे खुद लता मंगेशकर जी ने अपनी सुरीली आवाज़ दी हैं. लता जी कहती हैं कि अटल जी की ये कविता उन्होंने काफी अरसे पहले स्टूडियो में रिकॉर्ड की थी लेकिन ये कभी किसी एल्बम का हिस्सा नहीं बन पाई. ऐसे में अटल जी की याद में वे आज इस कविता को सभी लोगो के साथ शेयर कर रही हैं.

अटल जी के द्वारा लिखी गई इस कविता के बोल हैं ‘थान गई, मौत से थान गई’. जैसा कि हमने आप सभी को बताया इस कविता को आवाज लता मंगेशकर ने दी हैं जबकि म्यूजिक कम्पोज मयूरेश पाई ने किया हैं. लता जी कहती हैं कि मेरे दद्दा अटलजी एक साधपुरुष की भाँती थी. जिनका ओहदा हिमालय जैसा उंचा और चरित्र गंगा जैसा पवित्र था. अटल जी समझ के बड़े महान थे. वो हमेशा मेरे लिए मेरे दद्दा ही रहेंगे. वे सभी को काफी प्रभावित करने वाले और वहुत वियाजी इंसान थे.

लता जी के द्वारा आवाज़ दी गई इस कविता को लोग काफी पसंद कर रहे हैं. ये इन्टरनेट पर काफी वायरल हो रही हैं. इस कविता के बोल काफी दिलचस्प हैं और फिर जब लता जी जैसे महान सिंगर इसे गाकर सूना दे तो ये सोने पर सुहागा हो जाएगा. आप भी जब इस कविता को लता जी की आवाज में सुनेंगे तो मदहोश हो जाएंगे. तो चलिए इस विडियो के माध्यम से आपको भी ये कविता सूना देते हैं.

देखे विडियो:

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि अटल जी मौत के पहले 11 दिनों से दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में भर्ती थे. उन्हें यूरिनल इंफेक्शन था जिसकी वजह से लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था. हालाँकि ये बिमारी उन्हें काफी लम्बे समय से थी और उनकी उम्र भी अधिक हो चुकी थी इसलिए वो इससे उभर नहीं पाए और हॉस्पिटल में हम सभी को अलविदा कह चले गए.

गौरतलब हैं कि उनके अंतिम संस्कार बड़े मान सम्मान के साथ राजधानी के स्मृति स्थल पर हुआ जहाँ पीएम मोदी और कई बड़े नेता उपस्थित थे.