जाने आखिर पीएम मोदी कभी क्यों नहीं करते अपने पिता का जिक्र और कैसे हुई थी उनकी मृत्यु

6065

ये तो सब जानते है कि हमारे देश के पीएम नरेंद्र मोदी का जन्म दिन 17 सितम्बर को आता है. गौरतलब है कि इस बार भी उनके जन्म दिन पर देश भर के लाखो नहीं बल्कि करोड़ो लोगो ने उन्हें बधाईया दी है. अब इसमें तो कोई शक नहीं कि पीएम मोदी के चाहने वाले केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेश तक फैले हुए है. ऐसे में उन्हें जन्म दिन की बधाईया देने वालो की लिस्ट काफी लम्बी है. हालांकि पीएम मोदी अपना जन्म दिन अपनी माँ के साथ सेलिब्रेट करना ज्यादा पसंद करते है. जी हां आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पीएम मोदी अपने जन्म दिन के मौके पर अपनी माँ से मिलने के लिए जरूर जाते है.

अब यूँ तो आपने कई बार नरेंद्र मोदी को उनकी माँ के साथ देखा होगा, लेकिन आज हम आपको उनके पिता जी से रूबरू करवाएंगे. गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी जी के पिता जी अब इस दुनिया में नहीं है और हमें इस बात का बेहद अफ़सोस है. मगर यहाँ सबसे ज्यादा हैरानी की बात ये है कि नरेंद्र मोदी कभी किसी सार्वजनिक कार्यक्रम के दौरान अपने पिता जी के बारे में जरा सी भी बात नहीं करते. यहाँ तक कि उनकी अपने पिता के साथ कोई तस्वीर भी देखने को नहीं मिलता. अब इसके पीछे की असली वजह क्या है, ये भी आज हम आपको बताएंगे. यक़ीनन नरेंद्र मोदी के जीवन के इस पहलू के बारे में जान कर आप भी हैरान रह जायेंगे.

बता दे कि आज नरेंद्र मोदी के पिता के बारे में जो बातें हम आपको बताने जा रहे है, उनके बारे में शायद ही आप जानते होंगे. इसलिए अगर हो सके तो इस जानकारी को जरा गौर से पढियेगा. सबसे पहले तो हम आपको ये बता दे कि मोदी जी की माँ का नाम हीरा बेन है और उनके पिता का नाम दामोदरदास मोदी है. बरहलाल मोदी जी के पिता का पूरा नाम दामोदरदास मूलचंद मोदी था. जो अपने घर चलाने के लिए रेलवे स्टेशन में ही चाय बेचने का काम करते थे. अब ये तो सब को मालूम ही है कि राजनीती में आने से पहले हमारे मोदी जी भी चाय बेचने का ही काम करते थे. मगर अपनी कड़ी मेहनत के दम पर वो देश के पीएम बन गए.

वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दे कि मोदी जी का परिवार इतना गरीब था कि उनके पिता जी चाय बेच कर बड़ी मुश्किल से अपने घर का गुजारा कर पाते थे. गौरतलब है कि पहले के समय में तस्वीरें खींचने का ज्यादा चलन नहीं था. जिसके कारण नरेंद्र मोदी की अपने पिता के साथ एक भी तस्वीर देखने को नहीं मिलती. इसके इलावा ऐसा कहा जाता है कि एक दिन मोदी जी के पिता जी को अचानक हार्ट अटैक आ गया यानि दिल का दौरा पड़ गया, लेकिन इलाज न हो पाने के कारण उनका निधन हो गया.

केवल इतना ही नहीं इसके इलावा जब उनके पिता जी को दिल का दौरा पड़ा तब मोदी जी उनके साथ नहीं थे और इस बात का मोदी जी को आज तक अफ़सोस है. जी हां मोदी जी को आज तक इस बात का अफ़सोस है कि वो अपने पिता के अंतिम समय में उनके साथ नहीं थे. इसी वजह से मोदी जी किसी सार्वजनिक स्थान पर या मंच पर अपने पिता का जिक्र नहीं करते. हालांकि मोदी जी अब अपनी माँ का बेहद ख्याल रखते है और उनकी पूरी सेवा करते है.

बरहलाल हमें यकीन है कि अगर आज मोदी जी के पिता जी जिन्दा होते तो उन्हें अपने बेटे पर बेहद गर्व होता.